BA/BSc/Bcom First Division, Second Division

University Exam में 1st Division कैसे लाए? BA/BSc/Bcom First Division, Second Division, Third Division कितने नंबर पर होता है। सिर्फ ये काम करो 1st Division आपको मिलेगा

जो छात्र छात्राएं इंटर पास कर लेते हैं उसके बाद किसी भी यूनिवर्सिटी में पार्ट वन में नामांकन करवाते हैं तो उनके मन में एक सवाल जरूर पैदा होता होगा या फिर आता है और वह सोचते हैं आखिरकार हम बी ए या बी एस सी या बी कॉम में फर्स्ट डिवीजन कैसे लाएं अगर आपके भी मन में यह सवाल चल रहा है तो यह आर्टिकल आपके लिए है बस आप इस आर्टिकल को ध्यान पूर्वक अंत तक पढ़े हैं और आपको इससे संबंधित संपूर्ण जानकारी मिल जाएगी और जानकारी के लिए आपको बता दें बिल्कुल ही सरल तरीके से बताया गया है और जिस प्रकार से बताया गया है आप उस अनुसार से अपना तैयारी करते हैं तो आपको फर्स्ट डिवीजन जरूर मिलेगी तो आइए जानते हैं विस्तार से

1.University Exam में 1st ( प्रथम श्रेणी ) Division कैसे लाए?

 

2. BA/BSc/Bcom First Division, Second Division, Third Division कितने नंबर पर होता है ?

3. Graduation में First Division, Second Division , Third Division कितने नंबर पर होता है ?

4. Honours ( प्रतिष्ठा विषय) में कितने नंबर पर पास होता है और Subsidiary/ General Subject में जितने नंबर पर पास होता है?

1. BA/Bsc/BCom में कितने Number का परीक्षा होता है?

 

साथियों जब आप देश के किसी भी विश्वविद्यालय से डिग्री का कोर्स करते हैं तब आपको यह जानकारी अवश्य रहनी चाहिए कि यदि हम डिग्री में बीए, बीएससी अथवा बीकॉम / BA; BSc, Bcom का कोर्स करते हैं जो कि 3 वर्षीय होते हैं तब उस समय प्रथम वर्ष कितने नंबर का एक्जाम लिया जाता है , द्वितीय वर्ष कितने नंबर का Exam लिया जाता है वही तृतीय वर्ष कितने नंबर का एग्जाम लिया जाता है। और डिग्री डिग्री की परीक्षा देने पर हम कैसे तैयारी करें और कितना अंक लाएं जिससे हमें प्रथम श्रेणी (First Division), द्वितीय श्रेणी ( Second Division) या तृतीय श्रेणी (Third Division) प्राप्त होगा

इसी के साथ यह भी याद रखना चाहिए कि जो आप प्रतिष्ठा विषय ( Honours) रखे हैं उस में पास होने के लिए कितने प्रतिशत अंक की जरूरत होती है और जो आप Subsidiary/General सब्जेक्ट रखे हैं उस में पास होने के लिए कितना प्रतिशत अंक की जरूरत होती है।

A). Degree (Ba/Bsc/Bcom) Part 1 (प्रथम खंड) में कितने नंबर का एक्जाम होता है और कितना नंबर पास होने के लिए चाहिए?

डिग्री के प्रथम वर्ष में परीक्षाओं के बारे में बात करें तो बता दूं कि प्रथम वर्ष में प्रतिष्ठा के साए 200 का होता है जिन्हें पेपर एक (Paper-1 ) और पेपर दो (Paper-2 ) के नाम से जाना जाता है। वही उसमें 45% अंक पास होने के लिए चाहिए । यदि ऑनर्स पेपर में प्रैक्टिकल है तो प्रैक्टिकल में भी 45% अंक पास करने के लिए चाहिए।

और सब्सिडरी या जनरल विषय के बारे में बात करें तो प्रथम वर्ष में सब्सिडरी एक ( Subsidiary-1 ) सब्सिडरी दो ( Subsidiary- 2 ) करके 200 का सब्सिडरी होता है, और वही एक सौ ( 100 ) का लैंग्वेज सब्जेक्ट (Language Subject) अर्थात भाषा विषय होता है। इन सब सब्जेक्ट में पास होने के लिए 33% अंक की आवश्यकता होती है। और यदि सब्सिडरी के किसी भी पेपर में प्रैक्टिकल है तब आपको प्रैक्टिकल में भी 33% अंक पास होने के लिए चाहिए।

कुल मिलाकर डिग्री पार्ट वन में 500 की परीक्षा होती है। इस हिसाब से आप समझ सकते हैं की प्रतिष्ठा में 45% अंक चाहिए और सब्सिडर, भाषा विषय या जनरल में पास होने के लिए 33% अंक चाहिए।

B). Degree (Ba/Bsc/Bcom) Part 2 (द्वितीय खंड) में कितने नंबर का एक्जाम होता है और कितना नंबर पास होने के लिए चाहिए?

डिग्री के द्वितीय वर्ष में भी 200 का प्रतिष्ठा विषय, 200 का सब्सिडरी विषय, और वही 100 का भाषा विषय की परीक्षा होता है। प्रतिष्ठा विषय ( Honours Subject ) जिन्हें द्वितीय खंड में पेपर तीन ( Paper-3 ) और पेपर चार ( Paper- 4 ) के नाम से जाना जाता है। पार्ट 2 में भी प्रतिष्ठा विषय को पास करने के लिए 45% अंक की आवश्यकता होती है। यदि ऑनर्स पेपर में प्रैक्टिकल है तो प्रैक्टिकल में भी 45% अंक पास करने के लिए चाहिए।

और सब्सिडरी या जनरल विषय के बारे में बात करें तो द्वितीय वर्ष में सब्सिडरी तीन ( Subsidiary-3 ) सब्सिडरी चार ( Subsidiary- 4 ) करके 200 का सब्सिडरी होता है, और वही एक सौ ( 100 ) का लैंग्वेज सब्जेक्ट (Language Subject) अर्थात भाषा विषय होता है। इन सब सब्जेक्ट में भी पास होने के लिए 33% अंक की आवश्यकता होती है। और यदि सब्सिडरी के किसी भी पेपर में प्रैक्टिकल है तब आपको प्रैक्टिकल में भी 33% अंक पास होने के लिए चाहिए।

कुल मिलाकर डिग्री पार्ट वन में 500 की परीक्षा होती है। इस हिसाब से आप समझ सकते हैं की प्रतिष्ठा में 45% अंक चाहिए और सब्सिडर, भाषा विषय या जनरल में पास होने के लिए 33% अंक चाहिए।

C). Degree (Ba/Bsc/Bcom) Part 3 ( तृतीय खंड) में कितने नंबर का एक्जाम होता है और कितना नंबर पास होने के लिए चाहिए?

प्रथम वर्ष और द्वितीय वर्ष की परीक्षा देने के पश्चात कैंडिडेट को तृतीय खंड की परीक्षा देना होता है , बता दें की तृतीय खंड (Part 3 ) में ऑनर्स के लिए अर्थात प्रतिष्ठा विषय के लिए 400 का पेपर होता है जिन्हें तृतीय खंड में पेपर पांच ( Paper-5 ) , पेपर छह ( Paper- 6 ), पेपर सात ( Paper-7 ) और पेपर आठ ( Paper-8 ) के नाम से जाना जाता है। पार्ट 3 में भी प्रतिष्ठा विषय को पास करने के लिए 45% अंक की आवश्यकता होती है। यदि ऑनर्स पेपर में प्रैक्टिकल है तो प्रैक्टिकल में भी 45% अंक पास करने के लिए चाहिए।

Subsidiary/ General Subject की बात करें तृतीय खंड में सब्सिडरी और जनरल विषय हट जाती है। और उसके स्थान पर 100 (एक सौ ) की GES ( जनरल एंड एनवायरमेंटल स्टडीज );की परीक्षा ली जाती है।

इसमें भी पास होने के लिए 33% अंक की आवश्यकता होती है।

इस हिसाब से आप समझ सकते हैं कि डिग्री पार्ट 3 में भी 500 की परीक्षा होती है और उसमें 400 के प्रतिष्ठा विषय होती है और 100 के GES की परीक्षा होती है।

2. Honours Subject (प्रतिष्ठा विषय) कितने अंक (Number) का होता है ?

:- प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष और तृतीय वर्ष के परीक्षा का विश्लेषण करने के पश्चात हम पाते हैं की प्रतिष्ठा विषय ( Honours Subject) तीनों वर्ष मिलाकर 800 ( आठ सौ) का होता है।

A) प्रथम वर्ष, द्वितीय वर्ष और तृतीय वर्ष के परीक्षा का विश्लेषण करने के पश्चात हम यह भी पाते हैं की तीनों वर्ष मिलाकर कुल 1500 ( पंद्रह सौ) की परीक्षा होती है।

B) ग्रेजुएशन में परसेंटेज (Percentage) अथवा डिवीजन ( First Division, Second Division And Third Division )

का निर्धारण प्रतिष्ठा विषय अर्थात ऑनर्स सब्जेक्ट (Honours Subject) के हिसाब से होता है। और

C). प्रथम श्रेणी अर्थात फर्स्ट डिवीजन (First Division) लाने के लिए कैंडिडेट को प्रथम वर्ष के ऑनर्स, द्वितीय वर्ष के ऑनर्स और तृतीय वर्ष के ऑनर्स सब्जेक्ट के अंक मिलाकर 60% अंक की आवश्यकता होती है । अंक के बारे में बात करें तो

  • 800 का 60% = 800×60/100 = 480 And Above.

होता है, तो यदि आप तीनों वर्ष मिलाकर 800 में से 480 अंक प्रतिष्ठा विषय में प्राप्त करते हैं तब आप फर्स्ट डिवीजन कहे जाएंगे। और

यदि आपको 75% या उससे अधिक अंक आता है तब आप फर्स्ट डिवीजन में होते हुए Distinction अंक प्राप्त करके पास होंगे डिस्टेंशन प्राप्त करने के लिए 600 अंक की आवश्यकता होगी

  • 800 का 75% = 800×75/100 = 600 And Above = (Distinction).

और यदि आप 60% अंक से कम लाते हैं तब आप सेकंड डिवीजन अर्थात द्वितीय श्रेणी या थर्ड डिवीजन अर्थात तृतीय श्रेणी में आएंगे।

D) Second Division ( द्वितीय श्रेणी अर्थात सेकंड डिवीजन ) लाने के लिए कैंडिडेट को 45% या उससे अधिक और 60% से कम अंक लाना होगा। क्योंकि सेकंड डिवीजन के लिए कम से कम 45% अंक होना अनिवार्य है ।

आगे के बारे में बात करें तो

  • 800 का 45% = 800×45/100= 360 and Above.

तो ये रहा सेकंड डिवीजन का विवरण। अब हम बात करते हैं थर्ड डिवीजन के ऊप

E) Third Division ( थर्ड डिवीजन या तृतीय श्रेणी ) :-

 

दोस्त जानकारी के तौर पर बता दें कि जब आप डिग्री का कोर्स करते हैं और कोई प्रतिष्ठा विषय रखते हैं तब आपके परसेंटेज का निर्धारण आपके ऑनर्स विषय अर्थात प्रतिष्ठा विषय ( Honours) के आधार पर किया जाता है और स्नातक (Graduation) में प्रतिष्ठा विषय पास (Pass) करने हेतु न्यूनतम ( Minmum ) 45% अंक की आवश्यकता होती है यदि आप 45% या उससे अधिक अंक प्राप्त करते हैं तब आप सेकंड डिवीजन अर्थात द्वितीय श्रेणी से पास होते हैं। वही 60% या उससे अधिक अंक से पास करते हैं, तब फर्स्ट डिवीजन अर्थात प्रथम श्रेणी से पास करते हैं। तो आप यह समझिए कि अगर 45% अंक पास करने के लिए ही चाहिए तो उससे नीचे आएंगे तो आप फेल करार कर दिए जाएंगे तो आप यह समझिए की डिग्री में थर्ड डिवीजन ( Third Division) अर्थात तृतीय श्रेणी फेल ( Fail ) करार कर दिए जाते हैं /तृतीय श्रेणी नहीं होता है।

4. BA/BSC/BCOM में First Division, Second Division And Third Division का Table नीचे दिया गया है।

 

Ekalyan Scholarship ka Status kaise check karen, मुख्यमंत्री कन्या उत्थान योजना का Status कैसे चेक करें सिर्फ 2 मिनट मे

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.